EMI Full Form क्या है? What is The Meaning of EMI?

EMI Full Form क्या है? What is The Meaning of EMI?

EMI Full Form: What is the meaning of emi का मतलब अगर किसी लोन को चुकाने या सामान को खरीदने पर जो सामान मासिक किस्तों के का भुगतान किया जाता है। उसे हम EMI कहते हैं। आज हर किसी को लोन की जरूरत पड़ जाती है। लोन में तो आपको पूरे पैसे मिल जाते हैं, लेकिन जब आपको लोन चुकाना होता है तो आप एक साथ पूरे पैसे चुकाने नहीं होते हैं।

इसलिए इसे आसान बनाने के लिए बैंक आपको EMI का ऑप्शन देता है। जिसके जरिए आप हर महीने भुगतान करके अपने लोन को आसानी से चुका सकते हैं। आप जब EMI यानी मासिक किस्त चुकाते हैं, तो इसमें मूल ऋण राशि के अलावा ब्याज भी शामिल होता है। यानी जो आप की मासिक किस्त होती है,उसमे ब्याज के पैसे भी जोड़ दिए जाते है।

EMI Full Form क्या है?

EMI Full Form का मतलब Equated Monthly Installment है? EMI Full Form को हिंदी में “बराबर मासिक किस्त” कहते हैं।

यह पढ़ें – फ्री वेबसाइट कैसे बनाये?

यह पढ़ें – ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं?

What is The Meaning of EMI? EMI क्या है?

बैंक या किसी वित्तीय संस्थानों से ऋण के रूप में लिया गया धन को चुकाने के लिए बैंक आपको ऋण राशि को सामान किस्तों में चुकाने की सुविधा देता है। इसके लिए बैंक द्वारा आपके लिए एक राशि निर्धारित की जाती है। और उस राशि को पूरा करने के लिए एक अवधि भी निर्धारित की जाती है। आपको ब्याज की राशि के साथ उसी अवधि में बैंक का पूरा ऋण जमा करना होता है।

किसी भी EMI में मूलधन और ब्याज दोनों होता हैं, और यह राशि आपको बैंक अथवा संस्थान द्वारा बताई गई समय सीमा के अंदर देनी होती है। अगर निर्धारित की गई समय सीमा के बीच में बैंक/संस्थान की ब्याज दर बढ़ती है, तो आपकी समय सीमा आटोमेटिक बढ़ जाती है। इसका मतलब है, कि आपको अधिक EMI का भुगतान करने के लिए अधिक समय मिलेगा। यदि आप लोन चुकाने की समय सीमा को नहीं बढ़ाना चाहतें हैं तो क़िस्त की राशि को बढ़ा देना उचित होता है। यह सुविधा आपको बैंक द्वारा मिल जाती है। अब तक आप what is the meaning of emi समझ चुके होंगे।

EMI की गणना कैसे करें?

EMI कि गणना तीन तरह से निर्धारित होती है है।

  • ब्याज दर – एक बैंक जैसे साहूकार द्वारा लगाया जाने वाला ब्याज की दर।
  • ऋण राशि-उधार ली गई राशि।
  • ऋण की अवधि- ऋणदाता को पूरे ऋण को ब्याज सहित चुकाने का समय।

Flat ब्याज दर क्या है?

यदि हम flat ब्याज दर के बारे में बात करते हैं, तो हम आपको बताना चाहेंगे कि ब्याज की गणना पूरे मूल ऋण पर की जाती है। बिना इस तथ्य पर विचार किए कि प्रत्येक EMI का के साथ मूल राशि कम हो रही है। उदाहरण के लिए एक व्यक्ति कार खरीदना चाहता है, और तीन लाख की कार पर ऋण लेता है 12%। पर एक फ्लैट ब्याज दर पर लागू होगी और इसे 3 वर्षों में चुकाना होगा फिर EMI की गणना नीचे दी गई के रूप में की जा सकती है। आइये उदाहरण से समझते हैं

मूल राशि -300000

फ्लैट ब्याज की दर -12%

कुल अवधि – 3 वर्ष

EMI: मूल राशि (300000) को 36 महीने +12% से विभाजित किया जाता है, मूल राशि को 12 महीने = 8333* प्लस 300 = 11%33 से विभाजित किया जाता है। ब्याज की flat दर आमतौर पर कार ऋण और दोपहिया जैसे अल्पकालिक ऋण पर लागू होती है।

ब्याज में गिरावट क्या है?

शेष ब्याज दर कम होने की स्थिति में ब्याज राशि हर महीने में बदल जाती है। क्योंकि पहले महीने के लिए ब्याज की गणना पूरे मूल् ऋण पर की जाती है। और बाद के महीनों के लिए ब्याज की गणना बकाया राशि पर की जाती है। निम्न ब्याज राशि की गणना करने का सूत्र यह तरीका नीचे दिया गया है।

मूल ऋण राशि- 300000

कम ब्याज की दर – 12%

अवधि – 3 वर्ष

पहले महीने के लिए ब्याज = कुल ऋण राशि (300000) (1/12)* (12/100) = 3000. दूसरे महीने के लिए ब्याज=( बकाया ऋण राशि) (1/12) (12/100)

यह पढ़ें – KYC क्या है और KYC क्यों जरूरी है?

EMI Caclutor

यहाँ पर दिए गए emi loan calculator के माध्यम से समझ सकतें हैं।

होम लोन के लिए Pre-EMI और Full-EMI चुकौती के बीच अंतर क्या है?

होम लोन की full EMI को चुकाना मूलधन के साथ-साथ ब्याज का भुगतान है। घर का निर्माण पूरा होते ही यह भुगतान शुरू हो जाता है। कुछ बैंक full EMI भुगतान शुरू करने की भी अनुमति देते हैं। जबकि ऋण राशि को चरणों में वितरित किया जा रहा है। यदि आपने pre- EMI भुगतान विकल्प चुना है, तो EMI भुगतान pre-emi चरण समाप्त होते ही शुरू हो जाएगा। पूर्ण EMI का भुगतान करके ब्याज चुकाया जाता है। और ऋण अवधि के द्वारा बकाया ऋण राशि कम हो जाएगी।

उदाहरण एक व्यक्ति एक ग्रह ऋण के लिए रूपए 20 साल की अवधि में 15 लाख उनके घर का निर्माण 3 वर्षों में पूरा हो जाएगा। जिसके द्वारा वाह pre- EMI का भुगतान करना चाहता है। इसके बाद 3 साल प्रतिस्पर्धा होती है। और उसका pre- EMI भुगतान समाप्त हो जाता है। EMI चुकाने की अवधि शुरू हो जाती है। इस प्रकार कुल ऋण अवधि 3 वर्ष (पूर्व EMI अवधि)+20 वर्ष 23 वर्ष(ऋण अवधि)=23 वर्ष होगी।

Conclusion

तो दोस्तो आज हमने इस आर्टिकल में आप को What is EMI? & What is the meaning of EMI? के बारे में बताया है। जिसमें EMI kya hai, EMI full form, EMI की गणना कैसे करते है, फ्लैट ब्याज दर क्या है, ब्याज में गिरावट क्या है, होम लोन के लिए pre-EMI और full EMI चुकौती के बीच अंतर क्या है, EMI के लिए आदर्श क्या है, कर लाभ क्या है, पूर्ण EMI विकल्प चुनने की शर्तें क्या है। मै उम्मीद करता हूं कि आप सब को यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा।

Read More – सभी Full Form List को पढ़ें।

Leave a Reply