FASTag Hindi- फास्टैग क्या है ? FASTag कैसे काम करता है ?

FASTag Hindi- फास्टैग क्या है ? FASTag कैसे काम करता है ?




 
What is FASTag Registration in India
 
भारत में FASTag चर्चा का विषय बना हुआ है जिसके अंतर्गत चार पहिया वाहन को highway toll plaza पर  electronic toll collection के माध्यम से automatic payment करने के लिए बनाया गया है। क्योंकि highway toll plaza पर बेवजह होने वाली परेशानियों को खत्म करने के लिए FASTag scheme को लागू किया गया है। FASTag kya hai hindi का पूरा आर्टिकल सरल भाषा में बताया गया है जिससे आपको जल्दी समझ में आये।
 

What is FASTag in India? आज के इस आर्टिकल में हम FASTag scheme के बारे में जानने की कोशिश करेंगे और यह भी समझने की कोशिश करेंगे की फास्टैग क्या होता है, फास्टैग क्यों जरूरी है, फास्टैग से लाभ क्या है और फास्टैग कहां से खरीदें।
 
FASTag kya hai? फास्टैग क्या है ?
 




यह अक्सर देखने में आता है की टोल प्लाजाओं पर अधिकतम लोड और मैनुअल टोल कलेक्शन सिस्टम होने की वजह से काफी परेशानियां होती हैं जिसकी वजह से टोल प्लाजाओं पर हमेशा ट्रैफिक लगा रहता है और ज़्यादा समय भी बर्बाद होता है।
 
इस मैनुअल टोल कलेक्शन सिस्टम से होने वाली परेशानियों को खत्म करने के लिए “ National Highway Authority of India” द्वारा “National Electronic Toll CollectionNETCSystem शुरू किया गया है। 
 
National Electronic toll collection system को FASTag भी कहते हैं। FASTag scheme को भारत में सबसे पहले वर्ष 2014 में शुरू किया गया था। फास्टैग स्कीम को अहमदाबाद से मुंबई के टोल प्लाजा पर पायलट फेज प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किया गया था।
 
FASTag की सुविधा से आपके वाहन को highway toll plaza पर बिना किसी परेशानी के toll tax को चुका सकतें हैं और बेवजह traffic और समय बर्बादी को बचा सकतें हैं। आप अपने वाहन पर फास्टैग लगाकर टोल प्लाजा पर बिना रुके टोल टैक्स को automatic electronic toll collection के जरिये भुगतान कर पातें हैं। आप यह फास्टैग को आधिकारिक FASTag agency एवं सभी authorized bank के जरिये खरीद सकतें हैं। 
 
FASTag Benifits – फास्टैग के फायदे

 

Save Fuel and Time – समय और फ्यूल की बचत
 




FASTag वाहन में लगे होने पर नगद लेनदेन के लिए टोल प्लाजा पर रुकने की जरूरत नहीं होती है क्योंकि फास्टैग को RFID Reader के द्वारा signals मिलते हैं जब आपकी गाड़ी टोल प्लाज़ा इसके संपर्क में आती है तो यह टोल राशि को अपने आप काट लेता है जिससे आपका बहुत समय और fuel दोनों की बचत हो पाती है।
 
Online Recharge – ऑनलाइन रिचार्ज या टॉप-अप
 
FASTag topup या recharge की online सुविधा होती है जिसे आप क्रेडिट कार्ड/ डेबिटकार्ड / NEFT /RTGS, net banking अथवा UPI App के जरिये कर सकतें हैं।
 
Cashless Facility – कैशलेस सुविधा
 
FASTag वाहन पर लगे होने पर टोल प्लाजा पर किसी भी तरीके का नगद भुगतान नहीं होता है।
 
Cashback Facility – कैशबैक सुविधा
FASTag recharge top-up कराने पर online portal के जरिए cashback की सुविधा मिलती है यह  कैशबैक authorized agency या banking के अनुसार अलग-अलग हो सकते हैं।
 
SMS Alert & Transactions – एसएमएस अलर्ट सुविधा
 




प्रत्येक टोल प्लाजा को क्रॉस करने पर आपको टोल भुगतान राशि  की जानकारी एसएमएस के द्वारा दी जाती है इसके अलावा इसी तरह के फास्टैग ट्रांजैक्शन होने पर भी आपको एसएमएस अलर्ट की सुविधा से जानकारी मिलती है।
 
FasTag Customer Care – फास्टैग कस्टमर केयर नंबर
 
फास्टैग स्कीम को बेहतर बनाने के लिए सभी एजेंसियों ने और सहभागिता बैंक ने पब्लिक के लिए अलग से fastag helpline no जारी किया है जोकि 24 घंटे के लिए खुला रहता है जिस पर आप कभी भी कॉल करके फास्टैग संबंधित सभी जानकारियों को हासिल कर सकते हैं।
 
Who is governing Fastag ? फास्टैग को कौन नियंत्रित कर रहा है ?
 
केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री श्री नितिन गडकरी जी के द्वारा fastag scheme का शुभारंभ किया गया है। उन्होंने यह भी बताया की हाईवे पर इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन की सुविधा को तेज करने के लिए जल्द से जल्द हाईवे पर मौजूद पेट्रोल पंप को भी फास्टैग योजना से जोड़ा जायेगा।
 
इसके बाद FASTag scheme को शहरी एवं ग्रामीण पेट्रोल पंप और पार्किंग को भी शामिल किया जाना है। इस तरह India में प्रत्येक state & city हर जगह पर तेजी से बढ़ाया जाएगा। 

 

FASTag Se kya labha hai ? फास्टैग से क्या लाभ है
 
फास्टैग सुविधा से सबसे पहले हाईवे पर लगने वाले ट्रैफिक को काफी हद तक ख़त्म किया जा सकता है, जिसकी वजह से आपका बहुत समय बर्बाद होने से बचेगा। Fatag से हम बिना रुके हाईवे टोल प्लाज़ा पर पेमेंट कर सकेंगे। शहर एवं ग्रामीण क्षेत्र में पेट्रोल पंप से पेट्रोल खरीद सकेंगे एवं पार्किंग शुल्क को भी फास्टैग के जरिये पेमेंट कर पाएंगे। 

 

Fastag Benifits – फास्टैग से होने लाभ

 

 
  • FASTag के जरिए आसानी से भुगतान किया जा सकता है
  • टोल  टोल टैक्स चुकाने की प्रक्रिया आसान हो जाती है
  • टोल प्लाजा पर बिना रुके भुगतान किया जा सकता है
  • टोल नगद भुगतान करने जैसी परेशानियों से बचा जा सकता है
  • FASTag से समय की बचत होगी
  • FASTag को नेट बैंकिंग  क्रेडिट कार्ड / डेबिट कार्ड / NEFT / RTGS या यूपीआई के माध्यम से ऑनलाइन रिचार्ज किया जा सकता है
  • Toll transaction और min. balance होने पर sms alert के द्वारा जानकारी मिलती है 
  • ऑनलाइन पोर्टल पर सभी जानकारियों का उपलब्ध होना
  • FASTag में 5 वर्ष की वैधता
  • FASTag Online recharge top-up करने पर cashback की सुविधा मिलती है
  • पर्यावरण को लाभ मिलना
  • वायु प्रदूषण में कमी
  • कागज का कम से कम उपयोग होना
  • कम टोल कलेक्शन संबंधित समस्या 
  • हाईवे मैनेजमेंट का बेहतर होना
  • ज्यादा से ज्यादा आर्थिक लाभ का होना
FASTag kaam kaise karta hai ? फास्टैग कैसे काम करता है !

 

FASTag एक डिवाइस है जिसमे रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) टेक्नोलॉजी होता है जिसको आटोमेटिक पेमेंट के लिए उपयोग कर सकतें हैं और यह आपके प्रीपेड अकाउंट से पेमेंट कर देता है। फास्टैग को वाहन के सामने वाले काँच पर लगाया जाता है। 
 
जब आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास पहुंचती है तो टोल प्लाजा पर लगे हुए सेंसर आपके वाहन के विंड स्क्रीन में लगे Fastag के संपर्क में आ जाते हैं और बिना रुके आप टोल प्लाजा टैक्स  का भुगतान कर पाते हैं और यह Fastag आपके अकाउंट से भुगतान को काट लेता है।
 
अगर आप ही फास्टैग की राशि पूरी तरह खर्च हो जाती है तो आपको इसे रिचार्ज करवाना पड़ता है। Fastag की वैलिडिटी 5 वर्ष की होती है जिसके खत्म होने पर आपको इसे दोबारा बनवाना पड़ता है और अपनी गाड़ी के विंडस्क्रीन पर बदलना पड़ता है।
 
Fastag को आप टोल प्लाजा के माध्यम से वाहन का नॉनस्टॉप मूवमेंट और इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन टेक्नोलॉजी के जरिए कैशलैस भुगतान करते हैं और यह है पूरे भारतवर्ष में लागू किया जाना है।
 
fastag electronic toll collection
 

 

FASTag Electronic toll collection technology kya hai ?
 
FASTag kaise banaye ? फास्टैग कैसे बनाये
 
अब सवाल यह है की फास्टैग क्या है और फास्टैग कैसे बनेगा और इसके लिए हमें कहां जाना पड़ेगा तो मैं आपको बताता हूं कि Fastag बनवाने के लिए आपको कहीं भी जाने की जरूरत नहीं है बल्कि आपसे घर बैठे अप्लाई  कर सकते हैं और अपने घर पर ही इसको मंगवा सकते हैं और ऑनलाइन के माध्यम से फेस पैक टॉप अप अथवा Fastag रिचार्ज करवा सकते हैं नीचे दिए गए आर्टिकल में क्रमवार आप इसको समझ सकते हैं।
 
How To buy Fastag ? फास्टैग कैसे खरीदें
 
जैसा कि मैंने बताया है की फास्टैग घर बैठे आप मंगा सकते हैं या खरीद सकते हैं इसके लिए आपको किसी भी बैंक की वेबसाइट पर जाना होता है वहां पर आपको पहले से ही Fastag का मेनू मिलता है उसको क्लिक करके आप  मांगी गई सभी डिटेल को भरते हैं इसके बाद आपको कार की डिटेल अथवा वाहन की डिटेल को भरना होता है।
 
इसके अलावा आपके वाहन की रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट और ड्राइविंग लाइसेंस को अपलोड करना होता है और सबमिट कर देना होता है।
 
इस तरह Fastag online form को सबमिट करने के बाद 2 से 3 दिन में कोरियर के माध्यम से आपके द्वारा दिए गए एड्रेस पर Fastag आ जाता है और आप इसे अपनी गाड़ी सामने वाले कांच पर लगा लेते हैं।
 
Fastag India में कहाँ काम कर रहा है ?

 

इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन काफी समय से यूरोपियन कंट्रीज में उपयोग हो रहा था और भारत में से वर्ष 2014 में सबसे पहले लागू किया गया इसको पायलट फेस के लिए अहमदाबाद से मुंबई का हाईवे टोल प्लाजा रोड को चुना गया जो सबसे ज्यादा बेस्ट हाईवे सड़कों में से है।

 

इसके बाद दूसरे फेस के लिए चेन्नई से बेंगलुरु हाईवे टोल प्लाजा रूट को चुना गया और वर्ष 2015 में इसको फास्टैग के लिए ओपन कर दिया गया इस तरह अब तक धीरे धीरे लगभग 421 हाईवे टोल प्लाजा पर लागू किया जा चुका है।
 
Fastag India में कब स्टार्ट हो रहा है ?
 
पूरे भारतवर्ष में फास्ट्रेक को 15 दिसंबर वर्ष 2019  के बाद प्रत्येक टोल प्लाजा के लिए ओपन कर दिया जाएगा .


What is Fastag Fee ? फास्टैग फीस क्या है ?

फास्टैग को खरीदने के लिए आपको किसी ऑथराइज एजेंसी अथवा सहभागिता बैंक से ले सकते हैं और इसके लिए आपको एक joining fee देनी होती है जो कि मिनिमम Rs.200 होता है यह जॉइनिंग फीस सिर्फ एक बार ली जाती है जोकि non-refundable होता है।
 
लेकिन  प्रत्येक वाहन के लिए फास्टैग ऑथराइज एजेंसीज वाहन के मालिक से अलग अलग वाहन के अनुसार फास्टैग चार्ज ले सकती हैं और कुछ सिक्योरिटी डिपॉजिट भी  अलग अलग वाहन के हिसाब से भी लिया जा सकता है जोकि रिफंडेबल होता है।
 
Fastag required documents ?
 




फास्टैग को खरीदते अथवा रजिस्ट्रेशन करते समय आपसे कुछ डाक्यूमेंट्स आवश्यक रूप से लिए जाते हैं इसमें वाहन और उसके मालिक संबंधित डॉक्यूमेंट को लिया जाता है यह डॉक्यूमेंट केवाईसी अप्रूव्ड होने चाहिए जो मुख्य रूप से नीचे दिए  गए हैं।

 

  • वाहन रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट
  • वाहन के मालिक का पासपोर्ट साइज फोटो
  • वाहन मालिक के केवाईसी डॉक्यूमेंट जिस पर घर का पता लिखा हो 

 

Fastag Bank List ? फास्टैग बैंक लिस्ट
 
फास्टैग को खरीदने के लिए या फिर रजिस्ट्रेशन करने के लिए हम लोग राष्ट्रीय कृत बैंक  की ऑनलाइन वेबसाइट से किया जा सकता है Fastag खरीदने के लिए प्रत्येक बैंक में ऑनलाइन वेबसाइट में Fastag मेनू अलग से रखा हुआ है तथा Fastag की किसी भी जानकारी के लिए इन सभी बैंकों ने अपनी वेबसाइटों पर कस्टमर केयर नंबर को सर्विस देने के लिए ओपन किया है जो 24 घंटे खुला रहता है।
 
FASTag Helpline Number – फास्टैग कस्टमर केयर हेल्पलाइन नंबर
 
Fastag registration करने के लिए आप नीचे दिए गए authorized agency और Bank की लिस्ट को देख सकतें  हैं और हेल्पलाइन नंबर से जानकारी प्राप्त कर सकतें हैं। 
 
आप यहाँ पर दिए गए लिंक से Fastag registration के लिए बैंक और एजेंसी के डायरेक्ट पोर्टल पर जा सकतें हैं और फास्टैग को खरीद सकते हैं। Fastag apply online

 

Sr No.
Issuing Bank
Customer Care Helpline No
1
FASTag Axis Bank
1800-419-8585
2
1800 103 1222
3
FASTag Federal Bank
1800-266-9520
4
1860-266-3466
5
FASTag HDFC Bank
1800-120-1243
6
FASTag ICICI Bank
1800-2100-104
7
1800-266-9970
8
1800-102-1916
9
1800-419-6606
10
1800-102-6480
11
Punjab & Maharashtra Co-op Bank
1800-223-993
12
080-67295310
13
1800-266-9545
14
1800-425-1809
15
1800-11-0018
16
1800-425-0585
17
1800-103-4568
18
1800-258-7200
19
1800 -1200
20
1860 -500- 5004
21
1800- 22- 22 44/080-61817110
22
1800 -266- 7183
23
400
24
FASTag IHMCL
1033




 

fastag recharge online – फास्टैग ऑनलाइन रिचार्ज कैसे करतें हैं ?
Recharge FasTag online
 
फास्टैग अकाउंट को रिचार्ज करने के लिए आप क्रेडिट कार्ड/ डेबिट कार्ड/ NEFT /UPI या नेट बैंकिंग के जरिए कर सकते हैं। फास्टैग अकाउंट को मिनिमम रिचार्ज Rs. 100 और अधिकतम Rs. 100000 तक रिचार्ज कराया जा सकता है।
 
Fastag recharge करने के लिए आप किसी भी टोल प्लाजा अथवा फास्ट एजेंसी या बैंकिंग के पी ओ एस के जरिए रिचार्ज करा सकते हैं। Fastag recharge की अन्य जानकारियों के लिए आप नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।
 
FASTag Official Video ?
 

 

 

FASTag Faq ?
 

Contents

क्या FASTag अनिवार्य है ?



FASTag scheme की सुविधा को लेना आपकी इच्छा के अनुसार है
 




FASTag वाहन के किसी विशेष प्रकार / श्रेणी के लिए है?



FASTag सभी vehicle श्रेणियों, प्रकारों, और वाहनों के प्रकारों के लिए लागू है।
 

FASTag प्रोग्राम को कौन लागू कर रहा है ?



Indian Highways Management Company Limited (IHMCL) Under NHAI and National Payment Corporation of India (NPCI) और Toll Plaza Concessionaires, FASTag Issuer Agencies and Toll Transaction Acquirer (Select banks) की मदद से इस प्रोग्राम को लागू किया गया है।
 

टोल टैक्स डेबिट कितना किया गया है यह कैसे पता चलेगा?



टोल टैक्स का भुगतान होने पर एसएमएस के जरिए आपको जानकारी मिलेगी एवं फास्टैग अकाउंट जारीकर्ता एजेंसी के द्वारा ऑनलाइन आईडी से पूरे विवरण की जानकारी मिल जाएगी।
 

क्या Fastag में मंथली राजस्थानी पार्क की सुविधा है ?



मासिक पास की सुविधा प्रत्येक टोल प्लाजा पर उपलब्ध है इसकी पूर्ण जानकारी के लिए आप संबंधित एजेंसी अथवा बैंक के हेल्पलाइन नंबर पर विवरण ले सकते हैं।
 

क्या मैं एक से अधिक वाहनों के लिए एक FASTag का उपयोग कर सकता हूं?



नहीं ! प्रत्येक वाहन के लिए अलग-अलग फास्ट टैग लेना जरूरी है।
 

मेरे फास्टैग खो जाने पर  क्या करना होगा ?



फास्टैग खोने पर एजेंसी अथवा बैंक जारीकर्ता के कस्टमर केयर नंबर पर कॉल करके ब्लॉक कराना होता है।
 

फास्टैग खोने पर अकाउंट बैलेंस का क्या होगा?



फास्टैग जारीकर्ता के द्वारा नया अकाउंट खोला जाता है और फिर आपके बचे हुए बैलेंस को उसने अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाता है।
 




वाहन खो जाने पर Fastag का क्या होगा?



सबसे पहले आपको फास्टैग को ब्लॉक करना होता है फिर आपको कस्टमर केयर नंबर पर गाड़ी खो जाने की सूचना को अवगत करा कर अपने नए फास्टैग अकाउंट को issue करा सकते हैं।
 

क्या मैं एक  वाहन के लिए दो फास्टैग खरीद सकता हूं ?



नहीं यह बिल्कुल प्रतिबंधित है आप सिर्फ एक वाहन के लिए एक ही फास्टैग खरीदना होगा।
 

यदि मैं किसी दूसरे शहर में रीलोकेट होता हूं उस परिस्थिति में क्या करना होगा ?



फास्टैग सभी टोल प्लाजा ऊपर एप्लीकेबल है इसलिए शहर रीलोकेट होने पर यह पूरी तरह काम करेगा अगर आपको एड्रेस चेंज कराना है तो उसके लिए जारीकर्ता एजेंसी से संपर्क कर सकते हैं।
 

यदि मैं अपने वाहन को  सेल या ट्रांसफर करता हूं  तो क्या करना होगा ?



इसके लिए सिर्फ आपको जारीकर्ता एजेंसी के कस्टमर केयर पर कॉल करके सूचित करना होता है।
 

FASTag डेमेज हो जाए तो क्या होगा?



डैमेज होने पर जारीकर्ता एजेंसी  को सूचित किया जाना चाहिए 

 

Conclusion ?
 
फास्टैग स्कीम संबंधित इस आर्टिकल में आपने पूरी तरह समझा कि यह फास्टैग क्या है, फास्टैग कैसे काम करता है, फास्टैग कहां से खरीदें, फास्टैग कैसे बनाएंफास्टैग कैसे लगाएं, फास्टैग कस्टमर केयर नंबर, फास्टैग फीस इत्यादि प्रश्नों को जो आपके जेहन में चल रहे होंगे उसको समझने में काफी मदद मिली होगी।
 
FASTag मेरे लिखने तक अभी पूरी तरीके से पूरे भारत वर्ष में लागू नहीं हो पाया है लेकिन आने वाले समय में हो सकता है कि जल्द ही लागू कर दिया जाए उम्मीद करता हूं यह पूरा आर्टिकल FASTag को समझने के लिए एक बेहतर पोस्ट साबित होगा।
 
अगर आपको मेरा यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसको  ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर करें और सब्सक्राइब करें।  जिससे मेरी नवीनतम सभी पोस्ट को आप जल्दी से पढ़ सके। 

 

धन्यवाद !

Leave a Reply