What is ATM? ATM Full Form क्या है?

What is ATM? ATM Full Form क्या है?

आज के समय में बैंक से पैसे निकासी और डिपाजिट करने के लिए ATM के सहयोग से करते हैं। क्या आपको मालूम है की ATM full form क्या है? आज हम लोग इसी के बारे में जान्ने वाले हैं।

ATM Full Form क्या है?

ATM Full Form – Automatic Teller Machine

ATM Full Form Hindi – स्वचालित गणक मशीन

ATM Kya hai?

अभी तक आपको atm full form in hindi के बारे में जानकरी हुयी है अब एटीएम के बारे में जानते हैं। ATM एक electronic teli communications device है। जिसका उपयोग financial transaction जैसे cash transaction, deposit, fund transfer और अन्य बैंकों से संबंधित किसी भी समय लेनदेन के लिए किया जाता है।

यह बैंकिंग प्रक्रिया को बहुत आसान बनाता है क्योंकि यह मशीन ऑटोमेटिक है। किसी भी तरह के cash transaction या deposit को करने के लिए किसी भी बैंक कर्मचारी की आवश्यकता नहीं होती है। एटीएम आपका समय भी काफी ज़्यादा बचाता है।

यह पढ़ें – ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए?

उपयोगकर्ता विशेष प्रकार के प्लास्टिक कार्ड के माध्यम से अपने अकाउंट तक पहुंचते हैं। कार्ड के ऊपर मैग्नेटिक स्ट्रिप पर उपयोगकर्ता की जानकारी के साथ इनकोडेड होते हैं I मैग्नेटिक स्ट्रिप एक आईडेंटिफिकेशन कोड होता है जो बैंक के सेंट्रल कंप्यूटर पर मॉडर्न होता है – प्रेषित होता है। उपयोगकर्ता अपने अकाउंट तक पहुंचने और अपने अकाउंट ट्रांसक्शन की प्रक्रिया के लिए कार्ड को ATM में डालते हैं।

यह पढ़ें – फ्री वेबसाइट कैसे बनाये?

एटीएम मशीन वह input device होती है जो ATM को निर्देश देने में मदद करती है और item device वह होती हैं जो मशीन के द्वारा किए गए कार्य को दिखाने में मदद करता है। अब बात आती है की इनपुट डिवाइस और आइटम डिवाइस कौन से है। इस तरह ATM Kya hai? अब आपको समझ में आ चुका होगा।

ATM Input Device

आइये जानते हैं की ATM में कितने Input Device होते हैं।

  • Card Reader
  • Keypad
  • Touch Screen

इन सभी devices का काम महीने की निर्देश देने के लिए किया जाता है।

Card Reader

जिसमें Card reader का काम ग्राहक के कार्ड को पढ़कर उसके जानकारी को पहचानना होता है।

Keypad & Touch Screen

Keypad और Touch Screen का काम लोगों के द्वारा दिए गए निर्देश को ATM मशीन तक पहुंचाना होता है।

ATM Output Device

ATM में निम्न Output device होते हैं।

  • Cash Deposit
  • Display Screen
  • Printer
  • Speaker

Cash Deposit

मशीन में कैश डिपाजिट का काम पैसे को ATM मशीन में रखने के लिए होता है।

Display Screen

Display Screen का कार्य उपयोगकर्ता को निर्देश दिखाने और परिणाम प्रदर्शित करने के लिए होता है।

Printer

Printer का कार्य उपयोगकर्ता के द्वारा किए गए कार्यों का परिणाम लिखित रूप में प्रिंट करके प्रदान करना है।

Speaker

Speaker का कार्य मशीन द्वारा किए जा रहे कार्यों को उपयोगकर्ता तक आवास के माध्यम से पहुंचाना है।

ATM को कब और किसने बनवाया?

सबसे पहले एटीएम का आविष्कार 27 जून 1967 में लंदन के Barclays Bank में John Shepherd Brinjal ने किया था। यूं तो एटीएम के अविष्कार का श्रेय जॉन शेफर्ड बैलेंस बैरन को ही जाता है।

लेकिन इससे पहले लूथर जॉर्ज सिमीयन नाम के एक अमेरिकी नागरिक ने वर्ष 1939 में ही ATM मशीन तैयार कर ली थी, लेकिन यह सिर्फ डिपॉजिट मशीन थी जिसमें कैश और चेक ही जमा होते थे। इस मशीन का नाम बैंक मेटिक रखा गया था।

Read More: What is ITC in Hindi? ITC Full Form क्या है?

INDIA में पहला ATM कब लगा?

भारत में पहला एटीएम 1987 में मुंबई में HSBC द्वारा स्थापित किया गया था। अगले बारह वर्षों में, भारत में लगभग 1500 एटीएम स्थापित किए गए थे। 1997 में, Indian Banks Association (IBA) ने स्वधन की स्थापना की थी।

ATM का पिन 4 डिजिट में ही क्यों रखा गया था?

जॉन शेफर्ड बैरन की इच्छा थी कि वह एटीएम का पिन 6 डिजिट का रखें मगर उनकी पत्नी ने उनसे कहा कि 6 अंकों का पेन लोग याद नहीं रख पाएंगे इसलिए आप एटीएम का पिन 4 डिजिट का ही रखें और उन्होंने ४ डिजिट पिन को रखा था जो अब तक चल रहा है।

एक अपडेट के अनुसार अब यह ६ डिजिट का कर दिया गया है। इसका मतलब डिजिटल बैंकिंग में सिक्योरिटी को बेहतर करने के लिए जॉन शेफर्ड बैरन की पहली थ्योरी ही कारगार साबित हुयी है। यह एक ऐसी बेहतर सोच थी जो १९६७ में दुनिया के सामने आयी थी।

ATM से होने वाले लाभ क्या हैं?

  • एटीएम आ जाने से हर ग्राहक को आप पैसों के लेन-देन में पहले से कहीं ज्यादा सुविधा हो गई है।
  • पहले ग्राहकों को अकाउंट से पैसे निकालने के लिए बैंक में कर्मचारियों के पीछे दौड़ना पड़ता था लेकिन अब एटीएम आने से जब चाहे तब वह पैसे निकाल सकते हैं।
  • एटीएम की सुविधा 24 घंटे उपलब्ध रहती है आप जब चाहे तब पैसे निकाल सकते हैं।
  • एटीएम के जरिए आप अपने दोस्तों या रिश्तेदारों के प्रीपेड मोबाइल को रिचार्ज भी कर सकते हैं।

ATM Cash Deposit

ATM kiosk में लगभग सभी बैंकों ने अब Cash deposit machine लगा दी है। सबसे पहले आप एटीएम में एक बार में ₹4990 ही जमा कर सकते हैं। जो मशीनों में 2000 ,500 ,200 ,100 और ₹50 रुपए के नोट जमा कराए जा सकते हैं। लेकिन अब आप ज़्यादा से ज़्यादा जमा कर सकतें हैं।

Insurance Premium Payment – इंश्योरेंस को प्रीमियम चुकाए

LIC, HDFC Life, SBI Life जैसी बीमा कंपनियों ने बैंक से करार किया है। जिससे कि इनके ग्राहक एटीएम के जरिए प्रीमियम का भुगतान कर सकें।

इसके लिए पॉलिसी नंबर याद रखने की जरूरत है ATM के बिल पे सेक्शन में बीमा कंपनी का नाम सेलेक्ट करें इसके बाद पॉलिसी नंबर एंटर करने के बाद अपनी डेट ऑफ बर्थ डालें और मोबाइल नंबर भी डालें इसके बाद प्रीमियम की रकम डालें और कंफर्म कर दे।

Apply Personal Loan – पर्सनल लोन के लिए अप्लाई करें।

छोटी रकम के पर्सनल लोन के लिए आप ATM से ही अप्लाई कर सकते हैं। इसके लिए आपको फोन बैंकिंग या बैंक ब्रांच तक जाने की जरूरत नहीं है। कई प्राइवेट बैंक की टीम के सभी है। अपने ग्राहकों को प्री approved पर्सनल लोन ऑफर करते हैं और इसी एटीएम के जरिए निकाला जा सकता है।

इन रकम की गणना एडवांस एनालिटिक्स के जरिए की जाती है इसके लिए ग्राहक के Transaction Details , Account Balance, Salary की रकम और Credit /Debit Card के repayment का रिकॉर्ड देखा जाता है।

Cash Transfer – कैश ट्रांसफर

अगर आप नेट बैंकिंग का प्रयोग नहीं कर रहे हैं तो एटीएम की मदद से आप अपने खाते से दूसरे खाते में पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं। इसके लिए आपको ऑनलाइन या ब्रांच में जाकर उस खाते को रजिस्टर करना होगा। जिस खाते में रकम ट्रांसफर की जानी है एक बार में ATM से ₹40000 तक ट्रांसफर किए जा सकते हैं 1 दिन में आप कई बार रकम ट्रांसफर कर सकते हैं।

Payment Utility Bill- बिल पेमेंट करें

आप अपने टेलीफोन , बिजली ,गैस या दूसरे कई बिल एटीएम के जरिए जमा कर सकते हैं। मगर बिल भुगतान से पहले आपको बैंक की वेबसाइट पर एक बार आपको रजिस्टर करना पड़ेगा।

Rail Ticket Booking – रेल टिकट बुकिंग करें

एसबीआई, पीएनबी जैसे सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक रेलवे की बिल्डिंग में मौजूद कई एटीएम के जरिए टिकट बुक करने की सुविधा देते हैं। हालांकि अभी इस सुविधा के तहत सिर्फ लंबी दूरी की आरक्षित टिकट बुक की जा सकती हैं।

Conclusion

अभी तक आपने ATM Kya hai, ATM Full Form, ATM History, ATM Benifits और ATM Full Form in Hindi के बारे में जाना। उम्मीद करता हूँ यह आर्टिकल आपके लिए एक अच्छी जानकारी साबित होगी।

Read More: All Full Form List

Leave a Reply