What is UPSC Full Form in Hindi? UPSC Kya hai?

What is UPSC Full Form in Hindi? UPSC Kya hai?

UPSC kya hai, संघ लोक सेवा आयोग (UPSC full form in Hindi) भारत के संविधान द्वारा स्थापित एक संवैधानिक निकाय है, जो भारत सरकार के लोक सेवा के पदाधिकारियों की नियुक्ति के लिए परीक्षाओं का संचालन करता है।

UPSC level a और level b कर्मचारी की भारती के लिए एक स्वतंत्र संगठन (independent organization) है। UPSC की official website https://www.upsc.gov.in/है। UPSC देश में हर साल सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है। UPSC का मुख्य काम Group A और Group B जैसे श्रेणियो में अधिकारियों को सिविल सेवा में भर्ती करना है।

UPSC Full Form क्या है?

UPSC full form “Union Public Service Commission” है। जबकि UPSC full form hindi में “संघ लोक सेवा आयोग” कहते हैं।

UPSC की स्थापना कब हुई?

यह National level की संस्था है। यह संस्था National level के बड़े-बड़े एग्जाम करवाती है। यह भारत सरकार द्वारा संचालित संस्था है। UPSC की स्थापना 1 अक्टूबर 1926 को हुई थी, और UPSC का मुख्यालय न्यू दिल्ली में है। प्रत्येक वर्ष कई तरह के बड़े-बड़े एग्जाम को करवाना एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी होती है। यह हम लोग भली भाँती समझतें हैं।

UPSC के तहत आने वाले पद क्या है?

UPSC के चयनित उम्मीदवार भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) भारतीय पुलिस सेवा (IPS) भारतीय राजस्व सेवा (IRS) भारतीय विदेश सेवा (IFS) आदि पदों पर भर्ती किया जाता है। UPSC level A और level B ऑफिसर्स की विभिन्न ने छात्रों में भर्ती के लिए परीक्षा का आयोजन करता है। UPSC हर साल सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है।

UPSC के कार्य क्या हैं?

संविधान के अनुच्छेद 320 के तहत अन्य बातों के साथ-साथ सिविल सेवाओं तथा पदों के लिए भी संबंधी सभी जिम्मेदारियां आयोग के पास हैं। ऐसे किसी भी मामले में योग का परामर्श लिए लिया जाना अनिवार्य होता है। संविधान के अनुच्छेद 320 के अंतर्गत UPSC के प्रकारी इस प्रकार हैं।

  1. संघ के लिए सेवाओं में नियुक्त हेतु परीक्षा आयोजित करना।
  2. साक्षात्कार द्वारा चयन से सीधी भर्ती।
  3. प्रोन्नति/प्रतिनियुक्ति/आमिलन द्वारा अधिकारियों की नियुक्ति।
  4. भारत सरकार के अधीन विभिन्न सेवा तथा पदों के लिए भर्ती नियम तथा उनमें संशोधन करना।
  5. विभिन्न सिविल सेवाओं से संबंधित अनुशासनिक मामले।
  6. भारत के राष्ट्रपति द्वारा आयोग को प्रेषित किसी भी मामले में सरकार को परामर्श करना।

UPSC Exams Posts Full Form: UPSC परीक्षा पदों के फुल फॉर्म क्या है?

PostFull Form
IASIndian Administrative Service – भारतीय प्रशासनिक सेवा
IPSIndian Police Service – भारतीय पुलिस सेवा
IFSIndian Foreign Service – भारतीय विदेश सेवा
IRSIndian Revenue Service – भारतीय राजस्व सेवा

UPSC के द्वारा कराये जाने वाले एग्जाम्स

  1. Indian Forest Service Examination
  2. Combined Defence Service Examination
  3. Engineering Service Examination
  4. National Defence Academy Examination
  5. Combined Medical Service Examination
  6. Naval Academy Examination
  7. Special Class Railway Apprentice
  8. Indian Economic Service/Indian Statistical Service Examination
  9. Combined Geo Scientist and Geologist Examination
  10. Central Armed Police Force (Assistant Commandant)

हर साल लाखों उम्मीदवार UPSC परीक्षा के लिए होते हैं। इस students के बीच यह काफी लोकप्रिय परीक्षा है। जिसका कारण अच्छा वेतन लाभ और सम्मान जनक पद है।

UPSC Age Limit क्या है?

UPSC देने के लिए सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों हेतु न्यूनतम उम्मीदवार 21 वर्ष एवं अधिकतम 32 वर्ष है। (अधिकतम 6 बार)

ST-SC उम्मीदवारों को उम्र सीमा में 5 साल की छूट दी जाती है। (अधिकतम एक बार या 35 की उम्र तक)।

UPSC की तैयारी कैसे करें?

यह बहुत बड़े लेवल की होने वाली एग्जाम है। तो इससे आप आसान ना समझे, इस एग्जाम में बहुत tough competition रहता है। कई लोग सालों की मेहनत के बाद भी इस एग्जाम में पास नहीं हो पाते हैं। अगर आप वाकई में इस UPSC exam में पास होना चाहते हैं, तो इन बातों का खास ध्यान रखें।

Coaching join करें

देश में कई सारी IAS/IPS की तैयारियो के लिए कोचिंग है। जो आप ज्वाइन कर सकते हैं। वहां पर आपको हर नई जानकारी, न्यूज़,सूचना आदि से अपडेट रखा जाएगा एवं आपको एक पढ़ने का माहौल भी मिलेगा साथ ही साथ कई सालों के पेपर एवं स्टडी मैटेरियल आदि आपको कोचिंग के द्वारा उपलब्ध कराए जाएंगे।

Internet की मदद

आज इंटरनेट हर आदमी के पास मौजूद है। तो बेहतर होगा कि आप उसका सही यूज अपने ज्ञान को बढ़ाने में करें एवं पिछले वर्षों के पेपर,जनरल नॉलेज न्यूज़ आदि पढ़ते रहिए।

News Paper Reading

एक सबसे बेहतरीन तरीका होता है। अपनी जनरल नॉलेज को बढ़ाने के लिए। हिंदी एवं इंग्लिश के कई सारे न्यूज़ पेपर रोज पढ़ने की आदत डाल लें हो सके तो कोई लाइब्रेरी ज्वाइन कर लें जहां पर आप को एक साथ सारे न्यूज़ पेपर पढ़ने को मिल जाएंगे।

यह पढ़ें – Affiliate Marketing क्या है और पैसे कैसे कमाएं?

UPSC clear करने के बाद कहां जॉब मिलती है?

जैसाकि मैंने आपको ऊपर बताया है, कि UPSC अलग-अलग एग्जाम कंडक्ट करती है। तो यह निर्भर करता है कि आप UPSC द्वारा संचालित कौन सी परीक्षा दे रहे हैं यदि आप यूपी द्वारा आयोजित CSE (civil service exam) क्लियर कर लेते हैं, तो आप ग्रुप ए के अधिकारी जैसे कलेक्टर अपर कलेक्टर सचिव आदि पदों पर जा सकते हैं।

CSC के अलावा अन्य कोई एग्जाम जैसे आईएस ए सीरियस एनडीए आदि कई तरह के एग्जाम में पेशी द्वारा आयोजित किए जाते हैं जिस तरह की शिक्षा देंगे आपका वैसे ही सिलेक्शन होगा।

यह पढ़ें – ब्लॉग क्या है और कैसे बनाये?

UPSC में कितने लोग होते हैं और कैसे होता है चयन?

UPSC में एक चेयरमैन और 10 सदस्य होते हैं। इनका कार्यकाल 6 साल का होता है। या इनकी उम्र 65 वर्ष तक चलता है।

कोई भी सदस्य अपने कार्यालय के बीच में अपने पद से राष्ट्रपति को इस्तीफा दे सकता है। UPSC के सदस्य के लिए कम के लिए कम से कम 10 साल तक केंद्रीय राजस्व सेवा में काम किया हो या सिविल सेवा के पद पर कार्यरत रह चुका हो।

UPSC Exam Eligibility क्या होती है?

  • IAS, IFS और IPS की परीक्षा के लिए उम्मीदवारों का भारतीय नागरिक होना जरूरी है।
  • अन्य सेवाओं के लिए के किए स्थाई भारतीय नागरिक व प्रवासी भारतीय जो अन्य देशों से आकर भारत में स्थाई टूर पर बस गए हैं, परीक्षा के पात्र हैं।

UPSC भारतीय परीक्षा क्या है?

UPSC परीक्षा के तीन चरण होते हैं।

  1. Prelims
  2. Mains
  3. Personality Test

UPSC Prelims Exam Pattern

General studies 1: यह objective होते हैं। इनमें 100 questions होते हैं, जो 200 marks के होते हैं, और यह 2 घंटे का होता है।

General studies 2 (CSAT): यह भी objective होते हैं, मगर इनमें 80 questions होते हैं। जो 200 marks के होते हैं, और यह भी 2 घंटे का होता है।

Prelims exam प्रकृति में एक qualifying चरण है प्रीलिम्स में प्राप्त अंकों को अंतिम मेरिट सूची में नहीं गिना जाता है। प्रीलिम्स परीक्षा में दोनों पेपर objective type के होते हैं।

सामान्य अध्ययन 2 (CSAT) का पेपर प्रकृति में qualifying होता है। आपको दूसरे पेपर को पास करने के लिए 33% अंक प्राप्त करने होते हैं।

प्रीलिम्स परीक्षा में negative marking भी होती है। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 1/3 अंकों से कम कर दिए जाएंगे।

UPSC Exam Pattern For Mains

UPSC Mains परीक्षा में 9 पेपर होते हैं। जो उम्मीदवार प्रीलिम्स परीक्षा पास करते हैं। वह मेंस एग्जाम के लिए उपस्थित हो सकते हैं। Mains exam के सभी पेपर (descriptive types) के होते हैं। 2 भाषा के पेपर प्रकृति में qualifying होते हैं। UPSC मेंस परीक्षा 5 से 7 दिनों की अवधि में आयोजित की जाती है। पेपर A और B qualifying प्रकृति के होते हैं। उम्मीदवारों को अपने पेपर 1 से पेपर 8th तक प्रत्येक में कम से कम 25% स्कोर करना चाहिए।

UPSC Interview क्या है?

साक्षात्कार UPSC परीक्षा का अंतिम चरण है। मेरिट लिस्ट (साक्षात्कार/व्यक्तित्व परीक्षण) और मेंस परीक्षा के आधार पर तैयार की जाती है। साक्षात्कार चरण के लिए आवंटित अधिकतम अंक 275 है। इस प्रकार मेरिट सूची के लिए कई अंक 2025 है। साक्षात्कार करता (interviewer) general entrust के Questions पूछ कर स्टूडेंट का मानसिक और सोशल ट्रस्ट का न्याय करेगा। कुछ गुण में खोजते हैं। वे Mental alertness, critical power of assimilation, clear and logical exposition, a balance of judgement variety and depth of interest leadership intellectual or moral integrity है।

UPSC Exam के बाद सैलरी क्या होती है?

जैसा कि मैंने पहले ही बताया कि UPSC के लिए विभिन्न पदों पर एग्जाम दिए जाते हैं, यानी विभिन्न पदों की सैलरी भी विभिनन होती है।

Indian foreign service की बात की जाए तो इनकी सैलरी 12750 से 90 साल तक उनकी रैंक पर डिपेंड करती है। अगर बात Indian forest service की बात की जाए तो इनकी 15600 से 67000 तक होती है।

Indian revenue service की बात की जाए तो इनकी हर महीने की सैलरी 80000 तक होती है। Indian railway traffic service की सैलरी 1.5 लाख के करीब होती है।

सैलरी के अलावा group A और group B के सरकारी कर्मचारियों को बहुत सारी सुविधाएं भी प्राप्त होती हैं, और इन्हें समाज में बहुत ज्यादा सम्मान भी प्राप्त होता है।

UPSC का इतिहास क्या है?

भारत में एक मेरिट आधारित आधुनिक सिविल सेवा परीक्षा की अवधारणा 1854 में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा ली गई थी। प्रारंभ में भारतीय सिविल सेवा की परीक्षा केवल लंदन में आयोजित की जाती थी। लेकिन पाठ्यक्रम इस तथा डिजाइन किया गया था कि केवल ब्रिटिश उम्मीदवार ही इसमें सफल हो सके, फिर भी 1886 में पहले भारतीय श्री रविंद्र नाथ टैगोर जी के भाई श्री सत्येंद्र नाथ टैगोर जी सफल हुए। प्रथम विश्वयुद्ध और मोंटेग्यू चेम्सफोर्ड सुधारों के बाद भारतीय सिविल सेवा परीक्षा भारत में आयोजित की जाने लगी।

1 अक्टूबर 1926 को पहली बार भारत में लोक सेवा आयोग की स्थापना की गई। यूनाइटेड किंगडम के होम सिविल सर्विस के सदस्य सर रोस बारकर आयोग के पहले अध्यक्ष थे। 26 जनवरी 1950 को भारत के संविधान लागू होने के साथ संघ लोक सेवा आयोग को संघ लोक सेवा आयोग के रूप में मान्यता दी गई।

Conclusion

दोस्तों आज का यह आर्टिकल हमारे देश के सबसे कठिन और सबसे सम्मान जनक परीक्षा के बारे में हमने लिखा है। इस आर्टिकल के जरिए मैंने कोशिश की है कि आप लोगों को बहुत ही आसान शब्दों में UPSC kya hai से संबंधित सारी छोटी-बड़ी जानकारियां दे सकूं। आर्टिकल में हमने UPSC full form, UPSC exam, how to start preparing for upsc से जुड़ी ज्यादा से ज्यादा निम्नलिखित जानकारियों को बहुत विस्तार से जाना है।

Leave a Reply